नासा – इसरो का निसार मिशन ( NASA – ISRO NISAR Mission )

नासा – इसरो का निसार मिशन ( NASA – ISRO NISAR Mission )

संदर्भ : –

  • भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन ( ISRO ) एवं संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रीय वैमानिकी और अंतरिक्ष प्रशासन ( National Aeronautics and Space Administration NASA ) द्वारा संयुक्त रूप से पृथ्वी के वैज्ञानिक अध्ययन हेतु ‘ नासा – इसरो सिंथेटिक एपर्चर रडार उपग्रह ‘ ( NASA- ISRO Synthetic Aperture Radar satellite – NISAR ) अर्थात ‘ निसार ‘ नामक एक उपग्रह मिशन को साकार करने के लिए कार्य किया जा रहा है ।
  • NISAR मिशन के वर्ष 2024 में लॉन्च होने की संभावना है ।

NISAR के बारे में : –

  • निसार उपग्रह ‘ , खतरों और वैश्विक पर्यावरण परिवर्तन के अध्ययन के लिए अनुकूलित है और प्राकृतिक संसाधनों को बेहतर ढंग से प्रबंधित करने में मदद कर सकता है । इसके अलावा , यह जलवायु परिवर्तन के प्रभावों और इसकी गति को बेहतर ढंग से समझने के लिए वैज्ञानिकों को जानकारी प्रदान कर सकता है ।
  •  यह उपग्रह अपने तीन वर्षीय मिशन के दौरान प्रत्येक 12 दिनों में पूरे ग्लोब की बारीकी से जांच ( scan ) करेगा । यह उपग्रह अपने मिशन के दौरान पृथ्वी पर भूमि , बर्फ की चादर और समुद्री बर्फ की चित्रण कर ग्रह की एक ‘ अभूतपूर्व ‘ दृश्य प्रदान करेगा ।
  • यह सॅटॅलाइट , टेनिस कोर्ट के आधे आकार के किसी भी क्षेत्र में ग्रह की सतह से 4 इंच की ऊंचाई पर किसी भी गतिविधि का पता लगाने में सक्षम होगा ।
  •  नासा द्वारा इस उपग्रह के लिए रडार , विज्ञान आंकड़ो हेतु हाई – रेट कम्युनिकेशन सब – सिस्टम , जीपीएस रिसीवर और एक पेलोड डेटा सबसिस्टम प्रदान किये जाएंगे ।
  •  इसरों ( ISRO ) द्वारा स्पेसक्राफ्ट बस , दूसरे प्रकार के राडार ( S- बैंड रडार ) , प्रक्षेपण यान और प्रक्षेपण संबंधी सेवाएं प्रदान की जाएंगी ।
  •  निसार ( NISAR ) उपग्रह में नासा द्वारा अब तक लॉन्च किया गया सबसे बड़ा रिफ्लेक्टर एंटीना लगाया जाएगा , और इसका मुख्य उद्देश्य , पृथ्वी की सतह पर होने वाले सूक्ष्म परिवर्तनों पर नज़र रखना , ज्वालामुखी विस्फोट होने बारे में चेतावनी संकेत भेजना , भूजल आपूर्ति निगरानी में मदद करना और बर्फ की चादरों के पिघलने की दर पता लगाना

✓ ‘ सिंथेटिक एपर्चर रडार ‘ :-

  •   निसार ( NISAR ) , नासा – इसरो सिंथेटिक एपर्चर रडार [ NASA ISRO Synthetic Aperture Radar satellite ( SAR ) ] का संक्षिप्त रूप है । नासा द्वारा ‘ सिंथेटिक एपर्चर रडार ‘ का उपयोग पृथ्वी की सतह में होने वाले परिवर्तन को मापने हेतु किया जाएगा ।
  • सिंथेटिक एपर्चर रडार ( SAR ) , मुख्यतः उच्च विभेदन छवियां ( High – Resolution Images ) खीचने की तकनीक को संदर्भित करता है । उच्च सटीकता के कारण , यह रडार , बादलों और अंधेरे को भी भेद सकता है , अर्थात यह किसी भी मौसम में चौबीसो घंटे आंकड़े एकत्र करने में सक्षम है ।
Bihari Sir Dayanand Kumar Deepak Online Classes
Dayanand kumar Deepak

Dayanand Kumar Deepak is the MD (Managing Director) and CEO (Chief Executive Officer) of myjiolife.com and Whole Time Director, Independent Director, Shareholder/Investor Grievance Committee, Remuneration Committee.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *