बामियान नगर एवं मेस अयनक के बारे में पूरी जानकारी हिंदी में

Spread the love

Last Updated on September 30, 2022 by kumar Dayanand

बामियान नगर एवं मेस अयनक के बारे में पूरी जानकारी हिंदी में 

  •  बामियान नगर , अफगानिस्तान की हिंदूकुश पर्वत श्रृंखला की बामियान घाटी में है । यह ऐतिहासिक रूप से रेशम मार्ग पर अवस्थित होने के कारण प्रमुख व्यापारिक केंद्र था ।

  • कुषाण काल में बौद्ध भिक्षु बामियान घाटी में बसे , जिसके पश्चात् इस क्षेत्र में कई बौद्ध विहार और मठों का निर्माण करवाया गया ।
  • चीनी यात्री फाहियान लगभग 400 ईसवी में एवं ह्वेनसांग ने 632 ईसवी में इस स्थान का भ्रमण कर अपने यात्रा वृत्तांत में बौद्ध सभाओं की चर्चा की ।
  • यहाँ मौजूद बुद्ध की मूर्तियों को वर्ष 2001 में तालिबानी कट्टरपंथियों ने डायनामाइट से नष्ट कर दिया । विदित है कि यूनेस्को की विश्व विरासत सूची में बामियान घाटी के सांस्कृतिक परिदृश्य और पुरातात्त्विक अवशेष सम्मिलित है ।
  • मेस अयनक , अफगानिस्तान में बामियान से लगभग 200 किलोमीटर पूर्व में स्थित है ।
  •  मठों , मंदिरों और सैकड़ों बुद्ध प्रतिमाओं के 5,00,000 वर्ग मीटर में विस्तृत इस साईट को इस सदी की सबसे बड़ी पुरातात्विक खोजों में से एक माना जाता है ।
  •  हाल ही में अफगानिस्तान में स्थापित तालिबान शासन ने घोषणा की है कि वह मेस अयनक में प्राचीन बुद्ध प्रतिमाओं की रक्षा करेगा ।
  •  विदित है कि यह क्षेत्र तांबे की महत्त्वपूर्ण खनन साइट भी है , जहां तालिबान चीनी निवेश की उम्मीद कर रहा है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.