मेकेदातु जल परियोजना ( Mekedatu water project ) पूरी जानकारी

मेकेदातु जल परियोजना ( Mekedatu water project ) पूरी जानकारी 

संदर्भ : –

  •  हाल ही में , कर्नाटक विधानसभा द्वारा ‘ मेकेदातु परियोजना ‘ ( Mekedatu project ) को मंजूरी देने के लिए एक सर्वसम्मति से एक प्रस्ताव पारित किया गया है ।
  •  कुछ समय पूर्व , तमिलनाडु ने कर्नाटक द्वारा प्रस्तावित मेकेदातु पेयजल और संतुलन जलाशय परियोजना ‘ के विरोध में एक प्रस्ताव पारित किया था । कर्नाटक ने यह प्रस्ताव , तमिलनाडु के उस प्रस्ताव की प्रतिक्रिया में पारित किया गया ।

✓ कर्नाटक की मांग :-

  •  कर्नाटक विधान सभा द्वारा ‘ केंद्रीय जल आयोग ‘ और ‘ पर्यावरण एवं वन मंत्रालय से मेकेदातु परियोजना को जल्द से जल्द मंजूरी देने का आग्रह किया गया है ।
  •  विधान सभा सदन द्वारा केंद्रीय प्राधिकारियों से गोदावरी , कृष्णा , पेन्नार , कावेरी , वैगई और गुंडर नदी जोड़ने की परियोजना की विस्तृत परियोजना रिपोर्ट ‘ ( Detail Project Report DPR ) कोतटीय राज्यों काहिस्सा तय होने तथा कर्नाटक द्वारा अपनी मंजूरी दिए जाने तक अंतिम रूप नहीं देने का आग्रह किया गया है ।
  •  सदन ने केंद्रीय प्राधिकारियों से तमिलनाडु की अवैध परियोजनाओं को मंजूरी नहीं देने और तमिलनाडु को उन्हें जारी रखने से रोकने का निर्देश देने का भी आग्रह किया है ।

✓  कर्नाटक द्वारा मेकेदातु परियोजना को शुरू करने के संबंध में दिए गए कारण :

  •  सुप्रीम कोर्ट ने कावेरी जल विवाद न्यायाधिकरण के फैसले में संशोधन करते हुए एक सामान्य जल वर्ष में बिलीगुंडलू ( जल गेज़ ) में 177.25 टीएमसी फीट पानी छोड़ने की पुष्टि की है ।
  •  बेंगलुरू महानगर शहर के लिए 24tmcft का आवंटन , और सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अनुसार 4.75tmcfter उपभोग सुनिश्चित करने के लिए , और बदले में पनबिजली उत्पादन हेतु मेकेदातु पेयजल और संतोलन जलाशय परियोजना की योजना बनाई गई है ।

✓  मेकेदातु परियोजना के बारे में :-

‘ मेकेदातु ‘ एक बहुउद्देशीय ( जल एवं विद्युत् परियोजना है ।

  • परियोजना के तहत, कर्नाटक के रामनगर जिले में कनकपुरा के पास एक ‘ संतोलन जलाशय ( Balancing Reservoir ) का निर्माण किया जाना प्रस्तावित है ।
  •  इस परियोजना का उद्देश्य , बेंगलुरू शहर और इसके निकटवर्ती क्षेत्रों के लिए पीने के प्रयोजन हेतु पानी ( 75 टीएमसी ) का भंडारण और आपूर्ति करना है । इस परियोजना के माध्यम से लगभग 400 मेगावाट बिजली उत्पन्न करने का भी प्रस्ताव किया गया है ।
  • परियोजना की अनुमानित लागत 9,000 करोड़ रुपये है ।
Bihari Sir Dayanand Kumar Deepak Online Classes
Dayanand kumar Deepak

Dayanand Kumar Deepak is the MD (Managing Director) and CEO (Chief Executive Officer) of myjiolife.com and Whole Time Director, Independent Director, Shareholder/Investor Grievance Committee, Remuneration Committee.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *