Biography Netaji Subhash Chandra Bose

Spread the love

Last Updated on August 15, 2022 by kumar Dayanand

राष्ट्रीय आंदोलन के इतिहास में सुभाष चंद्र बोस का नाम विशेष उल्लेखनीय है | उनका जन्म 23 फरवरी 1897 में बंगाल के एक छोटे से गांव में हुआ था | उनके पिता का नाम जानकीनाथ बोस था | सुभाष अत्यंत श्री बुद्धि के छात्र थे | लंदन से उन्होंने आईसीएस परीक्षा पास की तथा भारत में आकर उच्च पद पर आसीन हुए |

The name of Subhash Chandra Bose is particularly notable in the history of the national movement. He was born on 23 February 1897 in a small village in Bengal. His father’s name was Janakinath Bose. Subhash was a student of utmost Mr. intelligence. From London, he passed the ICS examination and came to India and held a high position.

परंतु उनके हृदय में देश प्रेम की ओर ब्रिटिश शासन के विरुद्ध क्रोध की आग भड़क रही थी | अतः नौकरी से त्यागपत्र देकर देश सेवा में जुट गए | सुभाष चंद्र बोस लंबे समय तक कांग्रेस के सक्रिय कार्यकर्ता रहे | गांधीजी के उम्मीदवार डॉ सीतारमैंया कोहरा कर सन 11939 में कांग्रेस के अध्यक्ष बने | उनकी विचारधारा गांधी जी के विचारों से मेल नहीं खाती थी |

But in his heart, the fire of anger against the British rule towards the love of country was burning. So, after resigning from the job, the country got engaged in service Subhash Chandra Bose was an active Congress worker for a long time. In 11939, Gandhiji’s candidate Dr. Sitharamanya fogged and became the President of the Congress. His ideology did not match Gandhi’s views.

उनका विचार था कि अहिंसा वादी नीतीश से भारत को स्वतंत्र नहीं कराया जा सकता है | सुभाष हिंसा और सैन्य बल के द्वारा ही भारत को स्वतंत्र कराना चाहते थे | उनके विचार से कांग्रेस के प्रमुख नेता सहमत नहीं थे | सुभाष चंद्र बोस को कई बार कैद करके अंग्रेजों ने जेल में डाला | 1941 ईस्वी में वह भेष बदलकर ब्रिटिश सरकार की आंखों में धूल झोंककर भारत से जर्मनी चले गए तथा वहां से जापान पहुंचे |

He was of the view that India cannot be made independent by non-violence plaintiff Nitish. Subhash wanted to make India independent only through violence and military force. Major leaders of Congress did not agree with his view. The British imprisoned Subhash Chandra Bose several times and put him in jail. In 1941, he changed his disguise and moved from India to Germany and threw his eyes in the eyes of the British government.

गुप्त रूप से उन्होंने वहां “ आजाद हिंद फौज” का संगठन खड़ा किया | इस सेना ने अंग्रेजों से अनेक बार मोर्चा लिया किंतु पर्याप्त स्वस्थ रहो और खाद सामग्री के अभाव में सफलता नहीं मिल सकी | सन 1945 में एक वायुयान दुर्घटना में नेता जी का स्वर्गवास हो गया ऐसा माना जाता है |

Secretly, he set up an organization of “Azad Hind Fauj” there. This army took many times from the British, but be healthy enough and could not get success due to lack of fertilizer. It is believed that Netaji died in a plane crash in 1945.

Leave a Reply

Your email address will not be published.