Development Of Modern Sen System

Spread the love

Table of Contents

                      आधुनिक सैन्य पद्धति का विकास

सन 1613 में शहंशाह जहांगीर द्वारा ईस्ट इंडिया कंपनी को भारत में व्यापार करने की आज्ञा प्रदान की गई |कंपनी ने अपनी रक्षा के लिए सन 1683 में भारतीय अफसरों के अधीन दो राजपूत कंपनियां मुंबई में खड़ी की | धीमे धीमे ईस्ट इंडिया कंपनी अपने सैनिकों में वृद्धि करती रही तथा बाद में अंग्रेजों ने भारतीय सैनिकों का एक अस्थाई रेजिमेंट बनाया

The East India Company was granted permission to do business in India by Emperor Jahangir in 1613. The company set up two Rajput companies under Indian officers in Mumbai in 1683 for its defense. Slowly the East India Company continued to increase its troops and later the British formed a temporary regiment of Indian soldiers.

सन 1751 में कर्नलक्लाइव ने भारतीय सैनिकों को संगठित किया तथा इनको यूरोपीय ढंग से प्रशिक्षित किया |इन सैनिक कंपनियों के कमांडर सूबेदार कहलाते थे जो भारतीय होते थे तथा बटालियन कमांडर अंग्रेज हुआ करते थे |

Colonelclive organized Indian soldiers and trained them in European manner in 1751. The commanders of these military companies were called Subedars who were Indians and the battalion commanders were British.

1857 कि स्वतंत्रता की लड़ाई के पश्चात भारत पर ईस्ट इंडिया कंपनी का शासन समाप्त हो गया और इसके स्थान पर भारत की सत्ता रानी विक्टोरिया के हाथों में चली गई | उन्होंने भारत में एक वायसराय की नियुक्ति की तथा इंग्लैंड में सेक्रेटरी ऑफ स्टेट नियुक्त किया जो भारतीय मामलों में उन्हें सलाह देता था | स्वतंत्रता की लड़ाई के पश्चात सेना में भारतीयों की संख्या कम कर दी गई सैनिक परिवहन सेना का पुनर्गठन किया तथा पायनियर कोर वे सैनिक अस्पताल और संगठित की गई |

After the 1857 War of Independence, the rule of the East India Company over India came to an end and in its place the power of India passed into the hands of Queen Victoria. He appointed a Viceroy in India and appointed Secretary of State in England who used to advise him in Indian affairs. After the freedom struggle, the number of Indians in the army was reduced and the military transport army was reorganized and the Pioneer Corps Military Hospital was organized.

18 से 95 में प्रेसीडेंसी सेनाओं का स्वतंत्र अस्तित्व समाप्त कर दिया गया तथा संपूर्ण भारत को पंजाब,बंगाल,मद्रास तथा मुंबई कमान में बांटा गया | प्रत्येक कमान का कमांडर ले0 जनरल रैंक का अफसर बनाया गया जो भारत के सेना अध्यक्ष के प्रति उत्तरदाई होता था |

In 18 to 95, the independent existence of the Presidency armies was abolished and the whole of India was divided into Punjab, Bengal, Madras and Mumbai Command. The commander of each command was made an officer of the rank of general, who was responsible to the army chief of India.

सन 1900 में सेना को 0.303 राइफले वे मशीनगन दी गई |सानू 1902 मैं लार्ड की किचनर भारतीय सेना के जनरल बने |उन्होंने भारत की युद्ध प्रिय जातियों के लोगों के नए रेजीमेंट खड़ी की तथा सैनिकों के वेतन, पदोन्नति, पेंशन तथा सुविधाएं भी पहले से अच्छे करने का प्रयत्न किया |

In 1900, 0.303 rifle machine guns were given to the army. Sanu became the General of the Indian Army of Lord Kitchener in 1902. He established new regiments of the people of war-loving castes of India and also the salaries, promotions, pension and facilities of the soldiers. Tried to do well

1914 में प्रथम विश्व युद्ध प्रारंभ हुआ |उस समय तक भारतीय सेना के दोहे कार्य समझे जाते थे |

World War I started in 1914. By that time the couplets of the Indian Army were considered.

1.भारत में अंतरिक्ष शांति बनाए रखना | 2. आवश्यकता पड़ने पर युद्ध में इंग्लैंड की सेना के सहायता करना |

1. Maintaining space peace in India. 2. To assist the Army of England in the war if necessary.

प्रथम विश्वयुद्ध- प्रथम विश्वयुद्ध में टैंक, मोटर तथा वायुयानो का प्रयोग किया गया |उस समय पैदल सेना का महत्व फिर बढ़ गया | इस युद्ध में भारतीय सेनाएं, फ्रांस,पूर्वी अफ्रीका तथा मिश्र आदि देशों में लड़ने गई | प्रथम विश्व युद्ध में सेना के बहुत से दोस्त प्रकट हुए | अंत: इसमें अनेक परिवर्तन किए गए |19 रेजीमेंट में सेंटर खोले गए जिनका कार्य जवानों के भर्ती करना व ट्रेनिंग देना था |भारतीय प्रादेशिक सेना की स्थापना हुई | अफसरों के प्रशिक्षण हेतु 1922 में देहरादून में मिलिट्री कॉलेज खोला गया |

World War I – Tank, motor and aircraft were used in the First World War. At that time the importance of infantry again increased. In this war, Indian forces went to fight in France, East Africa and Egypt etc. Many friends of the army appeared in World War I. Finally, many changes were made in it. Centers were opened in 19 regiments whose task was to recruit and train soldiers. Indian Territorial Army was established. Military College was opened in Dehradun in 1922 for the training of officers.

द्वितीय विश्व युद्ध-3 सितंबर 1939 को जर्मनी ने पोलैंड पर आक्रमण करके द्वितीय विश्वयुद्ध शुरू किया जो कि 6 अगस्त को हिरोशिमा में 9 अगस्त 1945 को नागसाकी नागौर ऊपर अमेरिका द्वारा अनु विस्फोट करने के बाद समाप्त हुआ | इस लड़ाई में प्रमुख लड़ाकू देश जर्मनी, इटली और जापान आदि थे जिन के विरोध में अमेरिका, फ्रांस, बेल्जियम,हॉलैंड,ब्रिटेन रूस आदि देश है इस युद्ध में सेना, नौसेना में वायु सेना ने भाग लिया तथा टैंको,राकेट तथा एटम बम का प्रयोग हुआ इस युद्ध में हवाई शक्ति का महत्व बढ़ गया |

World War II – On September 3, 1939, Germany invaded Poland and started World War II, which ended on 6 August in Hiroshima on 9 August 1945 after the US blast on Nagasaki Nagaur. The major fighting countries in this battle were Germany, Italy and Japan etc. against which America, France, Belgium, Holland, Britain, Russia etc. are the countries in this war, Army, Navy and Air Force participated in this war, and Tanko, Rocket and Atom Bomb The importance of air power increased in this war.

इस युद्ध के दौरान सेना में भारतीय अफसरों की संख्या बहुत बढ़ि | प्रशिक्षण के लिए महू व बेंगलुरु में अब ऑफिसर प्रशिक्षण स्कूल खोले गए | लड़ाई के लिए हमारे के संगठन कोर, डिवीजन व बिग्रेड के रूप में संगठित किए गए | भारत के पूर्वी, पश्चिमी, दक्षिणी व मध्य कमान में बांटा गया | अवरोही सैनिकों को कवच युक्त निगाहों में परिवर्तित कर दिया गया तथा छाता धारी सैनिकों को सेना में जोड़ा गया |

During this war, the number of Indian officers in the army increased greatly. Officer training schools have now been opened in Mhow and Bangalore for training. Our organization was organized as Corps, Division and Brigade for the fight. India is divided into Eastern, Western, Southern and Central Command. The descending soldiers were converted into armor-oriented eyes and the Umbrella soldiers were added to the army.

15 अगस्त 1947 को भारत स्वतंत्र हुआ तथा इसका विभाजन भारत व पाकिस्तान 2 देशों के रूप में हुआ |पाकिस्तान को भारत का पश्चिमी हिस्सा व बंगाल में लगा हुआ मुस्लिम बहुल इलाका मिला | यह इलाके पश्चिमी पाकिस्तान व पूर्वी पाकिस्तान कहलाये |देश के विभाजन के साथ ही सेना का भी विभाजन हो गया और पाकिस्तान को लगभग 1/3सेना प्राप्त हुए |

On 15 August 1947, India became independent and it was divided into two countries – India and Pakistan. Pakistan got the western part of India and Muslim-majority area in Bengal. This area was called West Pakistan and East Pakistan. With the partition of the country, the army also got divided and Pakistan got about 1/3 army.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *