Iron Man Sardar Vallabhbhai Patel

Spread the love

Last Updated on November 27, 2022 by kumar Dayanand

Table of Contents

सरदार वल्लभभाई पटेल का जन्म 31 अक्टूबर 1875 ईस्वी को गुजरात के नडियाड जिला के करमसद गांव में एक किसान परिवार में हुआ था | इनके पिता का नाम झवरे भाई पटेल 1857 ईसवी के विद्रोह में झांसी की महारानी लक्ष्मी बाई की फौज में भर्ती होकर लड़े थे | इनकी शिक्षा में उनके परिवार ने कोई रुचि नहीं ली |

Sardar Vallabhbhai Patel was born on 31 October 1875 AD in a farmer family in Karamsad village of Nadiad district of Gujarat. His father’s name Jhavare Bhai Patel fought in the rebellion of 1857 AD by joining the army of Maharani Laxmi Bai of Jhansi. His family did not take any interest in his education.

इस कारण पटेल 22 वर्ष की उम्र में हाईस्कूल परीक्षा उत्तीर्ण कर सकें | सारी प्रतिकूल परिस्थितियों के बावजूद वल्लभभाई पटेल ने मेहनत व लगन के बल पर मुख्तार की परीक्षा पास की, और गोधरा में मुख्तार हो गए, मुख्तार वकील ही होते थे, लेकिन बैरिस्टर से इनका काम व रुतबा कम होता था | गोधरा में इनकी प्रेक्टिस अच्छी चली |

Because of this Patel could phot the high school examination at the age of 22. Despite all the adverse circumstances, Vallabhbhai Patel photed the exam of Mukhtar on the strength of hard work and perseverance, and he became a lawyer in Godhra, Mukhtar used to be a lawyer, but his work and status was less than a barrister. His practice was good in Godhra.

धन संचय करने के बाद पटेल इंग्लैंड गए तथा वहां से प्रथम श्रेणी में बैरिस्टर पास करके भारत लौटे |
वल्लभ भाई बचपन से ही निडर थे, खतरों से खेलना उनको सदा प्रिय रहा | एक बार उसने कहा था कि “मेरे साथ कोई खिलवाड़ नहीं कर सकता” इनके बड़े भाई विट्ठल भाई पटेल बैरिस्टर तथा स्वतंत्रता सेनानी थे |

After accumulating wealth, Patel went to England and returned to India after photing a first clhot barrister.
Vallabh bhai was fearless since childhood, he always loved playing with dangers. He once said that “no one can play with me”. His elder brother Vitthalbhai Patel was a barrister and freedom fighter.

1918 में वल्लभ भाई पटेल ने शान शौकत के जिंदगी छोड़ दी, और गांधी जी का साथ देने के लिए आजादी के आंदोलन में कूद पड़े | वो गांधीजी के पक्के सिपहसालार थे, नागरिक अवज्ञा आंदोलन, नमक सत्याग्रह और अंग्रेजों भारत छोड़ो आंदोलन का उन्होंने सफल तथा प्रभावी नेतृत्व किया | कई बार जेल भी गए हैं |

In 1918, Vallabhbhai Patel left the life of Shaan Shaukat, and jumped into the freedom movement to support Gandhiji. He was a staunch soldier of Gandhiji, he successfully and effectively led the Civil Disobedience Movement, Salt Satyagraha and British Quit India Movement. He has also gone to jail many times.

भारत स्वतंत्र होने पर वह नेहरू मंत्रिमंडल में उप प्रधानमंत्री और गृह मंत्री बने | पटेल ने समझा-बुझाकर देसी रियासतों को भारत संघ में मिलाया, हैदराबाद में सेना भेजकर निजाम को समर्पण करने के लिए मजबूर किया तथा जूनागढ़ को भारत संघ में मिलाया | 15 दिसंबर 1950 को उनका देहांत हो गया |

After India became independent, he became Deputy Prime Minister and Home Minister in Nehru’s Cabinet. Patel understood and mixed the princely states into the Union of India, sending forces to Hyderabad, forced the Nizam to surrender and Junagadh to the Union of India. He died on 15 December 1950.

अपनी कठोर प्रशासनिक क्षमता के कारण “लौह पुरुष” तथा नेतृत्व की विलक्षण प्रतिभा के चलते “सरदार” के नाम से मशहूर वल्लभ भाई पटेल को आजादी मिलने के बाद छोटे-छोटे रजवाड़ों को कुशलता पूर्वक भारतीय संघ में विलय करने का श्रेय प्राप्त है |

Vallabhbhai Patel, popularly known as “Sardar”, because of his rigorous administrative ability and “talent” of leadership, has got the credit of merging small princely states with the merger of Indian Union after independence.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *